Tuesday , June 18 2019
Home / देश / जो टकराएगा चूर-चूर हो जाएगा,ममता ने कहा- हम हिंदू-मुस्लिम सभी धर्मों की रक्षा करेंगे

जो टकराएगा चूर-चूर हो जाएगा,ममता ने कहा- हम हिंदू-मुस्लिम सभी धर्मों की रक्षा करेंगे

कोलकाता. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को जय श्रीराम के नारों को लेकर भाजपा को जवाब दिया। ईद के मौके पर ममता ने कहा कि बंगाल में किसी को डरने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, ‘हम हिंदू-मुस्लिम, सिख और ईसाई सभी धर्मों की रक्षा करेंगे। जो टकराएगा, चूर-चूर हो जाएगा। ये हमारा नारा है।’ इससे पहले ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने कहा कि भाजपा वाले अब बंगाल में जय श्रीराम की जगह जय मां काली बोलने लगे हैं। लगता है राम की टीआरपी कम हो गई।

ममता ने कहा, ‘मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है, वही होता है जो मंजूर-ए-खुदा होता है। कभी-कभी जब सूरज उगता है तो उसकी किरणें बहुत कठोर होती हैं, लेकिन बाद में वह दूर हो जाती हैं। डरो मत, जितनी तेजी से उन्होंने ईवीएम पर कब्जा किया था, उतनी ही तेजी से वे भाग भी जाएंगे। त्याग का नाम है हिंदू, ईमान का नाम है मुसलमान, प्यार का नाम है ईसाई, सिखों का नाम है बलिदान। ये है हमारा प्यारा हिंदुस्तान। सबकी रक्षा हम लोग करेंगे।’

‘भाजपा वाले जय श्रीराम से जय महाकाली पर आ गए’
मंगलवार को डायमंड हार्बर से तृणमूल के सांसद और ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी ने कहा कि बंगाल में अब भाजपा ने जय श्रीराम की जगह अब जय महाकाली बोलना शुरू कर दिया है। लगता है टीवी की रेटिंग की तरह जय श्रीराम की टीआरपी भी कम हो गई है। भाजपा के लोग राजनीति में धर्म को मिला रहे हैं।

अपर्णा सेन ने कहा- ममता अपनी कब्र खुद खोद रहीं
पद्मश्री से सम्मानित फिल्म निर्माता अपर्णा सेन ने कहा कि भाजपा के जय श्री राम के नारों का जवाब देकर ममता खुद अपनी कब्र खोद रही हैं। उन्होंने एक इंटरव्यू में कहा, ”मुझे यह बिल्कुल पसंद नहीं है। धर्म और राजनीति दोनों अलग-अलग होने चाहिए। राजनीति में धर्म को मिलाने से ही समस्याएं होती हैं। राजनीति में जय श्रीराम, अल्लाह हू अकबर और जय मां काली जैसे नारों पर रोक लगा देनी चाहिए।”

कैलाश ने कहा- 2021 तक नहीं चलेगी राज्य सरकार
भाजपा के महासचिव और बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने ममता सरकार गिरने की बात कही। कैलाश ने कहा, ‘मैं नहीं समझता कि ममता जी 2021 (विधानसभा चुनाव) तक पहुंच पाएंगी, क्योंकि वे अपरिपक्व की तरह बोलती हैं। हम तो 2021 के लिए तैयारी कर रहे, लेकिन उससे पहले ममता सरकार खुद ही गिर जाएगी।’

Loading...

Check Also

आचार्य महाश्रमणजी 20 जून को बेंगलुरु में, 23 जून को नागरिक अभिनन्दन.

बेंगलुरु: आचार्य महाश्रमण चातुर्मास प्रवास व्यवस्था समिति के महासचिव दीपचंद नाहर ने बताया कि कि ...