Home / home / जीजा-साली की यह रंगीन शायरियां,होली पर जरूर पढ़े

जीजा-साली की यह रंगीन शायरियां,होली पर जरूर पढ़े

होली का त्यौहार सभी को रंगीन लगता है. ऐसे में होली प्यार-मोहब्बत का पर्व है और इस दिन जीजा-साली का प्यार काफी शानदार तरह से नजर आता है. कहा जाता है होली पर लोग पुराने झगड़े भूलकर एक-दूसरे से गले मिलकर प्यार से गुलाल लगाते हैं. ऐसे में आज हम लेकर आए हैं आपके लिए जीजा-साली की होली की कुछ चटपटी शायरी, जिन्हे सुनकर आपको मजा आ जाएगा.

1) बजती नहीं है एक हाथ से ताली
अच्छी लगती नहीं मुझे घरवाली। गोरे गालों पे रंग लगाने को
अच्छी लगती है तो बस साली.

2) होली तो बस एक बहाना है
हमें साली के करीब जो आना है.
ऐसे रंग लगायेंगे सनम तुझे
ना भूल पाएगी इस जनम मुझे.

3) होली में अगर हुड़दंग न हो
प्यार से साली से छीना झपटी न हो.
तब तक होली में मजा नहीं
जब तक जीजा साली में ठिठोली न हो.

4) हम आपके दिल में रहते हैं
हर दर्द को बड़े प्यार से सहते हैं।
कोई हमसे पहले विश न कर दे आपको साली जी
इसलिए एक दिन पहले ही होली विश करते हैं.

5) चाल है तेरी मतवाली
और आंखें हैं मय की प्याली।
मैं बेहोश हुआ पीकर
होली पर जब आगोश में आई साली.

6) ऐसे मनाना होली का त्यौहार
पिचकारी से बरसे सिर्फ प्यार।
यह मौका है साली को गले लगाने का
तो गुलाल-रंग लेकर हो जाओ तैयार.

7) न बजे बेटा एक हाथ से ताली
न लगे अच्छी हमें घरवाली।
रंग लगाने के लिए तो सिर्फ
अच्छी लगे मुझे प्यारी साली.

8) भीगा के तुझे पानी में
तेरे साथ भीग जाना है.
हो कर रंगों से रंगीन आज
साली के गालों पर गुलाल लगाना है.

Loading...

Check Also

न्याय योजना से गरीबी मुक्त देशों की लाइन में खड़ा होगा भारत: मनमोहन सिंह

नई दिल्ली:पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस की न्याय योजना भारत ...