Monday , March 25 2019
Home / धर्म / जान लें ये बातें,कहीं आप तो नहीं चढ़ाते है इस दिन पीपल के पेड़ में जल

जान लें ये बातें,कहीं आप तो नहीं चढ़ाते है इस दिन पीपल के पेड़ में जल

हमारे शास्त्रों और धार्मिक मान्यताओं में पीपल के पेड़ को भी काफी महत्वपूर्ण दर्शाया गया है। इसे एक देव वृक्ष का स्थान देकर यह उल्लिखित किया गया है कि पीपल के वृक्ष के भीतर देवताओं का वास होता है। गीता में तो भगवान कृष्ण ने पीपल को स्वयं अपना ही स्वरूप बताया है।
जान लें ये बातें:
हमारे पौराणिक धर्म ग्रन्थों में पीपल के पेड़ की पूजा करने के कुछ नियम बनाये गये है  और जो व्यक्ति इन नियमों का पालन करके पीपल के वृक्ष की पूजा करता है उसका जीवन सफल हो जाता है।
# रविवार के दिन पीपल  की पूजा नहीं करनी चाहिए इससे घर में  दरिद्रता आती है और इसके अलावा रात को आठ बजे के बाद पीपल के आगे दिया नहीं जलाना चाहिए क्योंकि आठ बजे के बाद देवी लक्ष्मी की बहन दरिद्रता का वास माना जाता है।
# पीपल घर से दूर होना चाहिए। इसकी छाया घर पर नहीं पड़नी चाहिये। शास्त्रों में कहा गया है कि पीपल के वृक्षको बिना प्रयोजन के काटना अपने पितरों को काट देने का समान है। ऐसा करने से वंशकी हानि होती है।
# यज्ञादि पवित्र कार्यों के उद्देश्य से इसकी लकड़ी काटने से कोई दोष न होकर अक्षय स्वर्ग की प्राप्ति होती है पीपल सर्वदेवमय वृक्ष है, अत: इसका पूजन करने से समस्त देवता पूजितो जाते हैं।
Loading...

Check Also

ज्योतिष: हो जाएंगे मालामाल,शनिवार की रात जरूर करें यह टोटका

शनिवार का दिन शनि देव का दिन होता है। कहते हैं शनिवार के दिन इनकी ...