Tuesday , June 18 2019
Home / हेल्थ &फिटनेस / जानिये आयुर्वेद के अनुसार दही में नमक डालकर क्यों नहीं खाना चाहिए

जानिये आयुर्वेद के अनुसार दही में नमक डालकर क्यों नहीं खाना चाहिए

आयुर्वेद के अनुसार कभी भी दही में नमक डालकर नहीं खाना चाहिए। दही में छोटे-छोटे जीवाणु (वैक्टीरिया) होते हैं। यह जीवाणु हमें अपने शरीर के अंदर जीवित चाहिए होते हैं।

ये हमारे शरीर को पाचन में बहुत सहायता करते हैं और साथ ही शरीर को ऊर्जा प्रदान करते हैं। दही का सारा असर इन वैक्टीरिया के कारण ही होता है।

 

जब हम दही में नमक डाल देते हैं, तो ये सभी वैक्टीरिया मर जाते हैं। इससे फिर दही का कोई असर नहीं रह जाता। इस प्रकार दही खाने का कोई महत्व ही नहीं बच जाता है।

इसके विपरीत हम दही में गुड़, मिश्री या खांड इत्यादि कुछ मीठा मिला कर खा सकते हैं। दही में मीठा मिलाने से इन वैक्टीरिया की संख्या में बहुत तेज वृद्धि होती है। इस प्रकार मीठा दही खाने से ये जीवाणु हमारे शरीर में प्रवेश कर जाते हैं और हमारे शरीर को बहुत सी ऊर्जा प्रदान करते हैं।

 

दही में हम चीनी को छोड़कर कुछ भी मीठा मिला सकते हैं। क्योंकि चीनी हमेशा शुगर का कारण बनती है। दही के साथ मिश्री या शक्कर का मेल सबसे अच्छा होता है।

Loading...

Check Also

करेंट देने से वापस आ जाती है याददाश्त!

वाशिंगटन:वैज्ञानिकों ने दिमाग के उस भाग का अध्ययन किया है जो याददाश्त बनाए रखने का ...