Home / देश / जल संकट की वजह से बुंदेलखंड के गांवों से हो रहा पलायन

जल संकट की वजह से बुंदेलखंड के गांवों से हो रहा पलायन

भोपाल:  मध्यप्रदेश के बुंदेलखंड में जल संकट इतना गहरा गया है कि पन्ना, दमोह, छतरपुर और टीकमगढ़ जिले के कई गांवों के लोग पलायन कर दूसरी जगह चले गए हैं। क्षेत्र में करीब एक हफ्ते से तापमान 45 डिग्री से ऊपर बना हुआ है। जिससे जल स्रोत तालाब, कुएं और हैंडपंप पूरी तरह सूख गए हैं। पन्ना जिले के 50 से ज्यादा गांवों में यही स्थिति है। छतरपुर जिले के राजनगर, बड़ामलहरा, बिजावर, बक्शवाहा सहित कई इलाकों से भी ग्रामीण पलायन कर गए हैं।

दमोह जिले के तेंदूखेड़ा ब्लाक के अंतर्गत आने वाले भी कई गांव में जलसंकट बना हुआ है। बैलवाड़ा और मानपुरा ग्राम पंचायत के गांव में लोगों को जंगल में पानी की तलाश में जाना पड़ता है। वहीं पांड़ाझिर गांव ऐसा है जहां के लोगों को गर्मी के दिनों में जबलपुर जिले में पलायन करना पड़ता है। यहां के 80 प्रतिशत घरों में ताले डले हैं, क्योंकि यहां पानी का कोई भी साधन नहीं है। पांड़ाझिर गांव में पहली बार नहीं बल्कि कई वर्षों से पानी की समस्या बनी है। लोगों का कहना है उन्होंने कई बार पानी की पुष्टि के लिए अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई, लेकिन उन्होंने उनके गांव की ओर ध्यान नहीं दिया।
टीकमगढ़ जिले के मस्तापुर में पानी की कमी से बुरा हाल है। यहां जतारा जनपद के गांवों में भी हैंडपंप सूख चुके हैं और पीने के पानी मिलना भी मुश्किल हो गया है। आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक मध्यप्रदेश में पड़ रही भीषण गर्मी में 80 से ज्यादा बड़े जल स्त्रोत सूख गए हैं। वहीं प्रदेश के गांवों में 40 हजार से ज्यादा हैंडपंप ने काम करना बंद कर दिया है।

भोपाल में गर्मी ने ली एक की जान
भीषण गर्मी ने राजधानी के एक अधेड़ की जान ले ली। मामला बिलखिरिया थाना इलाके का है। पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच शुरू कर दी है। बिलखिया पुलिस के मुताबिक थाने से करीब तीन सौ मीटर दूर इरशाद फार्म हाउस के सामने एक शव पड़ेे होने की सूचना मिली थी। उसकी उम्र 50 से 55 आसपास लग रही है। शव सड़क के पंद्रह मीटर के अंदर झाडिय़ों में पड़ा था। नीचे कंबल भी बिछा हुआ था। पुलिस के अनुमान है कि आसपास पेड़ होने के कारण कोई व्यक्ति आराम करने के लिए लेट गया। इसी दौरान उसकी मौत हो गई। पीएम रिपोर्ट मिलने के बाद ही मौत का सही कारण का खुलासा हो सकेगा।

Loading...

Check Also

रोड दुघर्टना में मरने वालों की उम्र १८-२५ साल वालों की- गडकरी

केंद्रीय मंत्री माइक्रो स्माल एंड मीडियम इंटरप्राइजेज व रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज नितिन गडकरी ने टीसीई सेफ सफर काअनावरण किया।कार्यक्रम में टीसीआई के डॉक्टर डी पी अग्रवाल, श्री विनीत अग्रवाल और श्री चन्दर अग्रवाल भी उपस्थित थे। गडकरी ने विशेष तौर से बने हुए पारिस्थितिकी अनुकूलित ट्रक का अनावरण कर टी सी आई को इसके लिए बधाई देते ए कहा “मैं सबसे पहले टीसीआई को इस प्रयास के लिए बधाई देता हूँ जो लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से टी सी आई सेफ सफर को ले कर आये हैं।हमारे देश में हर साल ५ लाख एक्सीडेंट होते हैं जिसमें १.५ मृत्यु होती हैं और अधिकतर मृतकों की आयु १८ से २५ होती है. इसके कारण कई परिवार बर्बाद तो होते ही हैं और जी डी पी भी ३% गिरती है। अगर सब इसमें सावधानी बरतें तो यह खबरें आनी बंद हो जाएँगी।