Wednesday , March 27 2019
Home / देश / छत्तीसगढ़: जमात-ए-इस्लामी के ISI से रिश्ते, पाक से बना हुआ था संपर्क

छत्तीसगढ़: जमात-ए-इस्लामी के ISI से रिश्ते, पाक से बना हुआ था संपर्क

रायपुर:हाल में प्रतिबंधित और जम्मू कश्मीर में सक्रिय संगठन जमात-ए-इस्लामी जम्मू कश्मीर का पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई के साथ गहरा संपर्क बना हुआ था और वे लोग नई दिल्ली में कार्यरत पाकिस्तान के उच्चायोग के साथ सतत संपर्क बनाये हुये थे, ताकि वे राज्य में पृथकतावाद को बढ़ावा दे सके। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। हुर्रियत कांफ्रेंस में जमात-ए-इस्लामी के सबसे अहम सदस्य सैयद अली शाह जिलानी हैं।

एक वक्त में प्रतिबंधित संगठन उन्हें जम्मू कश्मीर के ’अमीर-ए-जिहाद (जिहाद के प्रमुख) कहता था। एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी कि इस संगठन ने पाकिस्तान की इंटर सर्विसेज इंटेलीजेंस (आईएसआई) के साथ गहरे ताल्लुकात बना लिये थे, ताकि वह कश्मीरी युवाओं को हथियार उपलब्ध कराने, प्रशिक्षण देने और शस्त्र आपूर्ति के लिए साजोसामान मुहैया करा सके। उसके नेता पाकिस्तान के नई दिल्ली स्थित उच्चायोग में संपर्क बनाये हुये थे।

खुफिया सूत्रों के अनुसार, जमात-ए-इस्लामी अपने स्कूलों के नेटवर्क का इस्तेमाल कश्मीर घाटी के बच्चों में भारत विरोधी भावनाएं भरने और फैलाने का काम करती थी। वह अपने संगठन की छात्र शाखा (जमीयत-उल-तुल्बा) के सदस्यों को ‘जिहाद’ करने के लिए आतंकी संगठनों में जाने के लिए प्रोत्साहित करती थी। अधिकारी ने बताया कि यह चौंकाने वाली बात नहीं है कि घाटी में आतंकवाद के ढांचे का जमात के कट्टर कार्यकर्ताओं के साथ गहरा संबंध दिखता है। इस संगठन से जुड़े कई ट्रस्ट हैं जो पुरातनपंथी इस्लामी शिक्षा को फैलाने के लिए स्कूल चलाते हैं। इसकी एक युवा शाखा है और वह अपनी दक्षिणरपंथी विचारधारा फैलाने के लिए कई तरह के प्रकाशन भी करती है।

Loading...

Check Also

छात्रा ने गुजरात यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर पर लगाया छेड़खानी का आरोप, प्रवेश पर रोक लगी

अहमदाबाद:गुजरात यूनिवर्सिटी में केमिस्ट्री के प्रोफेसर पर एक छात्रा ने छेड़खानी का आरोप लगाया है। ...