Friday , March 22 2019
Home / देश / गुजरात के भारत-पाक बॉर्डर पर पाटन की तीन लड़कियां जल्द ही रक्षा करती आएंगी नजर

गुजरात के भारत-पाक बॉर्डर पर पाटन की तीन लड़कियां जल्द ही रक्षा करती आएंगी नजर

अहमदाबाद:गुजरात के भारत-पाकिस्तान बॉर्डर में पाटन गांव की तीन लड़कियां जल्द ही भारत की रक्षा करती नजर आएंगी। ये लड़ियां अहीर समुदाय की हैं जिसे यहां का रूढ़िवादी समुदाय माना जाता है। तीनों लड़कियों ने लिखित परीक्षा पास कर ली है और कब फिजिकल टेस्ट के बाद देश की सेवा में लग जाएंगी। रामी अहीर (20) अपने नौ भाई-बहनों में सबसे छोटी है। वह अपने परिवार की एकलौती ऐसी सदस्य है जिसने कॉलेज तक पढ़ाई की है। उनके परिवार के आठ भाई-बहनों में से किसी ने स्कूल का मुंह तक नहीं देखा। जिले के संतलपुर तालूका के गांव धोखावाडा की रहने वाली रामी ने बताया, मैं हमेशा सोचती थी कि अगर यूपी, हरियाणा और पंजाब जैसे इलाकों के लेग बीएसएफ में शामिल हो सकते हैं तो हम लोग क्यों बीएसएफ नहीं जॉइन कर सकते।

वह रोज 45 किलोमीटर चलती हैं। बकूत्रा गांव की शानू अहीर (21) का घर बॉर्डर से लगभग 50 कोलोमीटर दूर है। वह स्नातक तीसरे वर्ष की छात्रा है और उसने भी बीएसएफ की लिखित परीक्षा पास कर ली है। शानू ने कहा कि वह बचपन से बीएसएफ के जवानों को देखते हुए बड़ी हुई है। उसने जवानों का व्यक्तित्व और देश के प्रति उनका समपर्ण बहुत भाता था। वह भी उनकी तरह सेना में जाना चाहती थी। छह भाई बहनों में से एक शानू जब एक साल की थी तभी उसकी शादी तय हो गई थी और पंद्रह वर्ष की उम्र में उसकी शादी कर दी गई।

उसने बताया कि उनके पति वीरा सिर्फ तीसरी कक्षा तक पढ़े हैं लेकिन वह बहुत ही सपॉर्टिव हैं। शानू की पति ने कहा, मैं किसानी करूंगा लेकिन तुम अपने सपने पूरे करो। तीसरी लड़की का नाम भी शानू है। वह धोखावाडा गांव की रहने वाली है। उसने गांव में 1,600 मीटर का एक ट्रैक बनाया है जिस पर वह रोज तोड़कर फिजिकल टेस्ट की तैयारी कर रही है। लड़कियों ने बताया कि वे अपना वजन बढ़ाने के लिए दूध पी रही हैं और केले खा रही हैं।

Loading...

Check Also

कांग्रेस ने जारी की छठी सूची, महाराष्ट्र-केरल की नौ सीटों पर नाम घोषित

कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव  के लिए अपनी छठी सूची जारी कर दी है। इस सूची ...