Home / home / कांग्रेस का बड़ा आरोप येदियुरप्पा ने 2 हजार करोड़ भाजपा को दिए…!

कांग्रेस का बड़ा आरोप येदियुरप्पा ने 2 हजार करोड़ भाजपा को दिए…!

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री कपिल सिब्बल ने आज मीडिया से कहा कि प्रधानमंत्री मोदी अकसर कहते हैं कि हमारे कार्यकाल में कोई घोटाले नहीं हुए, कोई स्कैम नहीं हुए और हमने इस देश को एक साफ सुथरी राजनीति दी है। फिर वो आरोप लगाते हैं कांग्रेस पार्टी के ऊपर कि हमारे कार्यकाल में कई स्कैम हुए। इससे पहले 2008 से लेकर 2011 येदियुरप्पा कर्नाटक में मुख्यमंत्री थे और उन्होंने कहा, एक स्टेज पर स्वर्गीय अनंत कुमार जी और येदियुरप्पा बातचीत कर रहे थे और उस वार्तालाप में उन्होंने माना कि 1,000 करोड़ रुपया यहाँ केन्द्र में दिया गया, उसकी ट्रांसक्रिप्ट भी उन्होंने आपको दिखाई। आज हम आपके सामने वो ऑरिजनल डायरी पेश करेंगे। येदियुरप्पा की ऑरिजनल डायरी हम आपको वीडियो में दिखाएंगे।

सिब्बल ने कहा कि हम तो प्रधानमंत्री की फोटो कॉपी रोज अखबार में देखते हैं, रोज इश्तिहार में देखते हैं, हम तो कभी नहीं कहते कि ये प्रधानमंत्री नहीं है। रोज वीडियो में उनकी शक्ल देखते हैं, हम तो कभी नहीं कहते कि ये उनकी शक्ल नहीं है। लेकिन जब इनके बारे में कुछ कहा जाए, करप्शन के बारे में कुछ कहा जाए तो प्रधानमंत्री मौन रहते हैं और फिर भी दोहराते हैं कि मैंने तो इस देश को एक स्वच्छ राजनीति है। पहले आप इस वीडियो को देखिए, ताकि आपको पता लगे कि इस वीडियो में क्या है-

सिब्बल ने कहा कि 10-10 करोड़ की रकम लिखी हुई है, 50 करोड़ की रकम लिखी हुई है, लगभग 2,000 करोड़ से ज्यादा की एंट्री यहाँ हैं। सभी नाम तो कन्नड़ में हैं। सारे आंकड़ों का टोटल करें तो 2,000 करोड़ से ज्यादा है। 250, 50, 50-50, 100 ऊपर, 100 इधर, यहाँ उनके हस्ताक्षर। उनके हस्ताक्षर आप देख सकते हैं, ये असली डायरी के पन्ने हैं।

उन्होंने कहा कि ये 2012 की डायरी है। अगर आप इन आंकड़ों को जोड़ें तो 1800 करोड़ सेंट्रल कमेटी को दिए गए। सेंट्रल कमेटी में आपको मालूम है कि वहाँ उनके अध्यक्ष कौन-कौन हैं, उनके अध्यक्ष प्रधानमंत्री खुद है, इसमें वित्त मंत्री जी हैं, गृह मंत्री जी हैं, गडकरी जी हैं, तो सारी जो भाजपा की टोप लीडरशिप हैं, वो सेंट्रल कमेटी के सदस्य हैं और इसमें लिखा है कि ये पैसा सेंट्रल कमेटी को दिया गया। अब ये मामला इंकम टैक्स विभाग को भी पता लगा, उस समय सुशील चंद्रा जी सीबीडीटी के चेयरमैन थे, आज वो चुनाव आयोग के इलेक्शन कमिश्नर हैं और ये भी हमें मालूम है कि जब मंत्री महोदयों को ये बात बताई गई और उनसे पूछा गया इस डायरी के बारे में आपको क्या कहना है तो उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

तो कहने का मतलब ये है कि हमने ये मांग की थी कि इसमें जांच होनी चाहिए और क्योंकि आज लोकपाल का गठन हो गया है तो लोकपाल की पहली जांच यही होनी चाहिए और प्रधानमंत्री जी से, इनके मंत्रियों से सवाल पूछने चाहिए। पूरी तरह से जांच होनी चाहिए। ये अपने आपमें एक कॉग्निजेबल ऑफेंस है। निश्चित रुप से अगर ये सही है तो इसमें सारे भाजपा की टोप लीडरशिप शामिल हैं।

अब सबसे पहले तो प्रधानमंत्री जी को इसका जवाब देना चाहिए। दो ही बातें हो सकती हैं, क्योंकि ये तो ऑरिजनल डायरी है, अगर प्रधानमंत्री ये कहते हैं कि येदिरुप्पा ने झूठ बोला है, ये सब फर्जी है तो तुरत येदियुरप्पा को गिरफ्तार करना चाहिए। सरकार को खुद एफआईआर येदियुरप्पा के खिलाफ करनी चाहिए कि उन्होंने झूठ क्यों बोला, उन्होंने ऐसी डायरी में एंट्री क्यों की? उसमें ऐसी कई एंट्री हैं, जिसमें उन्होंने लिखा है कि हमने इन-इन लोगों को पैसे दिए और मैं ये कहना नहीं चाहता कि कुछ एंट्री में ये भी हैं कि जजिस के नाम पर पैसे हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि अगर वाकई में ये सच है तो बहुत ही गंभीर मामला है और अगर येदियुरप्पा का असत्य है तो येदियुरप्पा जी को तुरंत गिरफ्तार करना चाहिए और इस सरकार को करना चाहिए। इसमें तो दो राय हो ही नहीं सकती, या तो सत्य है, या असत्य। अगर सत्य है तो ये सब लोग जो इसमें शामिल होंगे, इनको जवाब देना होगा कि इनके पास पैसे आए कब, खर्च कहाँ हुए, किसने खर्च किए, कैसे लाए गए, कहाँ से लाए गए, क्या ये माईनिंग बैरनस के पैसे थे, उनसे क्यों लिए गए, अगर उनसे नहीं लिए गए तो किसी और से लिए गए, उनसे क्यों लिए गए? जब पैसे पहुंचे इनके पास तो इन्होंने कैसे दिल्ली पैसे पहुंचाए? कब दिए, किस दिन किस-किस को दिए, क्या कहकर दिए? इसकी तो जांच होनी चाहिए।

Loading...

Check Also

कांग्रेस प्रत्याशी पेपर पढ़ नहीं पा रहे थे तो अमरिंदर ने अपना चश्मा दे दिया, फिर भरा पर्चा

जालंधर. सांसद संतोख सिंह चौधरी ने सोमवार को नामांकन भरा। इस दौरान जब चौधरी नामांकन पेपर पढ़ने लगे ...