Home / Home / कश्मीर में दंगा भड़काना चाहते हैं चिदंबरम, ताकि सियासी रोटियां सेंकी जा सकें : प्रसाद

कश्मीर में दंगा भड़काना चाहते हैं चिदंबरम, ताकि सियासी रोटियां सेंकी जा सकें : प्रसाद

नई दिल्ली:कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम के अनुच्छेद 370 से संबंधित बयान पर केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कड़ी प्रतिक्रिया की है। उन्होंने चिदंबरम के बयान को भड़काऊ और बेहद गैरजिम्मेदाराना बताया। प्रसाद ने आरोप लगाया कांग्रेस चाहती है कि कश्मीर में दंगे हों, ताकि वह अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक सकें। यही वजह है कांग्रेस के चिदंबरम जैसे नेता कश्मीर को लेकर आग उलग रहे हैं। प्रसाद ने कहा कश्मीर के लोग उनकी मंशा पूरी नहीं होने देंगे। आतंक और हिंसा ने कश्मीर को आज जिस मुकाम पर पहुंचा दिया है, उसमें अनुच्छेद-370 हटाया जाना कश्मीरियों के हित में है। केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कांग्रेस नेता का बयान भड़काऊ है और मकसद विस्फोटक। उनसे इस तरह के बयान की उम्मीद नहीं थी। उल्लेखनीय है कि चिदंबरम ने चेन्नई में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था कि यदि जम्मू-कश्मीर हिंदू बहुल राज्य होता, तो भाजपा कभी विशेष राज्य का दर्जा खत्म नहीं करती।

केंद्रीय मंत्री प्रसाद ने कहा हम चिदंबरम के बयान की निंदा करते हैं। अनुच्छेद-370 हटाया जाना जम्मू कश्मीर के हित में है और देश हित में भी है। क्या यह सच्चाई नहीं है कि राज्य में दशकों तक चली हिंसा में लगभग 42 हजार निर्दोष लोग मारे गए। मारे गए लोगों में ज्यादातर निर्दोष हिंदू थे। इसके अलावा भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि केंद्र सरकार ने दशकों पहले की गई गलती को सुधारने का काम किया है।

उन्होंने कहा चिदंबरम ने यह बात इस मुद्दे को साम्प्रदायिक रंग देने के लिए कही है। कांग्रेस चाहती है कि जम्मू कश्मीर में दंगे हो जाएं, ताकि वे इस पर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक सकें। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान ने चिदंबरम के बयान पर कहा यह कांग्रेस की छोटी मानसिकता का परिचायक है कि वह इस मुद्दे को हिंदू-मुस्लिम के नजरिए से देख रही है। चिदंबरम ने चेन्नई में एक कार्यक्रम में आरोप लगाया कि भाजपा सरकार ने जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद-370 के ज्यादातर प्रावधानों को हटाने के लिए बाहुबल का इस्तेमाल किया है। चिदंबरम ने दावा किया कि जम्मू-कश्मीर में स्थिति अस्थिर है। अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेंसियां वहां की अशांति को कवर कर रही हैं, लेकिन भारतीय मीडिया यह काम नहीं कर रहा।

Loading...

Check Also

पत्नी पर हुआ शक तो चुपके से लगा दिया CCTV कैमरा, अगले दिन बीवी की ऐसी हरकत देख उड़ गए होश

जब हिमांशु अग्रवाल ऑफिस से घर लौटे, तो उन्होंने देखा कि उनके घर का ताला ...