Wednesday , March 27 2019
Home / home / कश्मीर के गिरफ्तार हुए अलगाववादी नेता यासीन मलिक को पीएसए के तहत भेजा गया जेल

कश्मीर के गिरफ्तार हुए अलगाववादी नेता यासीन मलिक को पीएसए के तहत भेजा गया जेल

श्रीनगर: जम्मू एवं कश्मीर लिबरेशन फ्रंट (जेकेएलएफ) के अध्यक्ष यासीन मलिक के खिलाफ जन सुरक्षा अधिनियम (पीएसए) के तहत मामला दर्ज किया गया है। 22 फरवरी को गिरफ्तार किए गए अलगाववादी नेता यासीन मलिक को श्रीनगर की जेल से अब जम्मू की कोट भलवाल जेल में स्‍थानांतरित किया जाएगा। पीएसए के तहत इन्हें दो साल तक हिरासत में रखा जा सकता है।

पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत गिरफ्तार

एक पार्टी प्रवक्ता ने बताया कि, मलिक को कठोर कानून, पब्लिक सेफ्टी एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया हैं। और उन्हें जम्मू जिले में स्थित कोट बलवल जेल में स्थानांतरित किया जाएगा। 22 फरवरी को एहतियातन हिरासत में लेने के बाद उन्हें श्रीनगर में कोठीबाग पुलिस स्टेशन में रखा गया था। उन्होंने बताया कि आज सुबह यासीन को पता चला की उन्हें (यासीन मलिक) को पीएसए के तहत गिरफ्तार किया गया है और कोट भलवाल जेल में स्थानांतरित कर दिया जाएगा।

18 हुर्रियत नेताओं की सुरक्षा वापस ली गई

बता दें कि जम्मू-कश्मीर सरकार ने पुलवामा हमले के बाद कठोर कदम उठाते हुए घाटी के 18 हुर्रियत नेताओं और 160 राजनीतिज्ञों को दी गई सुरक्षा वापस ले ली थी। इनमें एसएएस गिलानी, अगा सैयद मौसवी, मौलवी अब्बास अंसारी, यासीन मलिक, सलीम गिलानी, शाहिद उल इस्लाम, जफर अकबर भट, नईम अहमद खान, फारुख अहमद किचलू, मसरूर अब्बास अंसारी, अगा सैयद अब्दुल हुसैन, अब्दुल गनी शाह, मोहम्मद मुसादिक भट और मुख्तार अहमद वजा शामिल थे।वहीं मलिक को 22 फरवरी की रात मायसूमा स्थित आवास से गिरफ्तार किया गया था। पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर श्रीनगर के कोठीबाग थाने ले गई। इसके बाद देर रात उनको सेंट्रल जेल भेज दिया गया था।

Loading...

Check Also

चौकीदार चोर नहीं, प्योर है और दोबारा पीएम बनना श्योर है : राजनाथ सिंह

नई दिल्ली:केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ‘चौकीदार चोर है’ नारे के जवाब में कहा कि ...