loading...
Loading...

नई दिल्ली :दिल्ली हाईकोर्ट ने विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा जवाहरलाल नेहरू विश्विविद्यालय छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार समेत 15 छात्रों के खिलाफ की गयी अनुशासनात्मक कार्रवाई को रद्द कर दिया है। न्यायमूर्ति वीके राव ने इस मामले को नय सिरे से फैसला करने के लिये वापस जेएनयू के पास भेज दिया। कोर्ट ने जेएनयू के अपीली प्राधिकार से कहा कि वह छात्रों को सुनने के छह हफ्ते के भीतर एक तार्किक आदेश दे। जिन छात्रों की सुनवाई होनी है, उनमें उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य भी शामिल है। इनका आरोप था कि विश्वविद्यालय ने अनुशासनहीनता के आरोपों से खुद को बचाने के लिये पर्याप्त मौका नहीं दिया।

ज्ञात रहे कि संसद भवन पर हमले के दोषी अफजल गुरू को फांसी दिये जाने के विरोध में नौ फरवरी को जएनयू परिसर में कार्यक्रम आयोजित करने और कथित तौर पर राष्ट्र विरोधी नारे लगाये जाने के सिलसिले में कन्हैया, खालिद और भट्टाचार्य को पहले देशद्रोह के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था। बाद में कोर्ट से उन्हें जमानत मिल गयी थी।