Saturday , March 23 2019
Home / मनोरंजन / कई ऐक्टर्स से जलन होती है मुझे : परिणीति चोपड़ा

कई ऐक्टर्स से जलन होती है मुझे : परिणीति चोपड़ा

मुंबई:किसी भी काम के दौरान प्रतियोगिता का दूसरा नाम जलन की भावना है। बॉलिवुड में एक-दूसरे के काम, प्रसिद्धि और तरक्की को देखकर जलने वालों की कोई कमी नहीं है। सितारों के बीच तमाम बड़े झगड़े इस जलन का सबूत हैं। अभिनेत्री परिणीति चोपड़ा ने बड़ी ही विनम्रता के साथ साथी कलाकरों के मिलने वाले काम को देखकर होने वाली इस जलन को परिभाषित करते हुए कहा है कि वह जब भी किसी ऐक्टर को अच्छा रोल मिलता है तो जलभुन कर राख हो जाती हैं, लेकिन यह जलन पॉजिटिव होती है। वैसे परिणीति इस समय पहली कुर्सी की दौड़ में तो नहीं हैं, लेकिन फ्लॉप फिल्मों के पहाड़ के नीचे दबी परिणीति एक सोलो हिट फिल्म के लिए तड़प रही हैं।

अच्छी कहानी से जुड़ने और फिल्मों के चुनाव पर वह कहती हैं, किसी फिल्म के चुनाव का इतना परफेक्ट ढांचा नहीं होता है। फिल्म से जुड़ने और उसे चुनने के पैरामीटर्स रोज बदलते हैं। कहानी सुनने और सुनाने के बाद भी लोगों का मूड चुटकियों में बदल जाता हैं। जब तक मैं कोई और फिल्म शूट कर रही हूं, तब तक सामने वाले का मूड हो सकता है बदल जाए। सच तो यह है कि किसी फिल्म से जुड़ने को लेकर एकदम परफेक्ट प्लानिंग नहीं की जा सकती है। हमें सिर्फ फिल्म की स्क्रिप्ट पर रिऐक्ट करना होता है।

अगर फिल्मों का चुनाव प्लान के मुताबित परफेक्ट होता तो फिल्में कभी फ्लॉप ही नहीं होतीं। ‘केसरी’ में अपने किरदार के बारे में परिणीति कहती हैं, फिल्म केसरी सिर्फ मेरे किरदार पर नहीं है। यह फिल्म योद्धाओं की है। मैं इस फिल्म में बहुत छोटा सा रोल निभा रही हूं और मेरे ऊपर एक गाना है। आप यह भी कह सकते हैं कि केसरी में काम मैंने इस गाने के लिए कर लिया है। अब इस फिल्म को करने के बाद मुझे इस तरह की फिल्मों का टेस्ट पता चल गया है। वह कहावत है न शेर के मुंह में खून लगना, अब मैंने भी इस तरह की फिल्मों का स्वाद चख लिया है। तो अब मैं ऐसी फिल्में और भी करना चाहूंगी।

Loading...

Check Also

मथुरा में हेमा और सपना के बीच हो सकता है कड़ा मुकाबला

लोकसभा चुनाव को लेकर सभी पार्टियाें ने कमर कस ली है और देखना यह है ...