Home / उत्तर प्रदेश / एक साथ जलीं आठ चिताएं, सैकड़ों आंखों से छलक उठे आंसू

एक साथ जलीं आठ चिताएं, सैकड़ों आंखों से छलक उठे आंसू

सहारनपुर: देवबंद में गुरुवार को हुए सड़क हादसे में हुई आठ मौतों के बाद जब शव गांव मेघराजपुर पहुंचे तो हर शख्‍स की आंख में आंसू था, हर ओर गमगीन माहौल था। शुक्रवार सुबह छलकी आंखों के बीच सात शवों का गांव में जबकि एक शव का नागल क्षेत्र के गांव डंगडोली में अंतिम संस्कार हुआ। इस दौरान बड़ी संख्‍या लोगों के साथ प्रशासनिक अधिकारी भी मौजूद रहे।

सुबह से ही जुटने लगे थे लोग
गुरुवार को डीसीएम और कार की भिड़ंत में मेघराजपुर गांव के एक ही कुनबे की सात महिलाओं समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी। गुरुवार देर रात शव गांव पहुंचे तो चारों और चीख चीत्कार मच गई। पूरी रात गम के बादल गांव पर मंडराते रहे। शुक्रवार सुबह गांव में लोगों का तांता लगना शुरू हो गया। जनप्रतिनिधियों ने भी गांव पहुंच मृतकों के परिवारीजनों को सांत्वना दी। जब एक साथ घर से सात अर्थियां उठी तो चहुओर करुण क्रंदन रहा।

विलाप देख हर आंख में थे आंसू
जिस किसी ने विलाप देखा वह अपने आंखों से आंसू नहीं रोक पाया। आंखों से बहते आंसुओं के साथ गीता पत्‍नी अजय (35), राधिका पत्‍नी ओसराम (40) जगरोशनी पत्‍नी सुशील (50) मूर्ति पत्‍नी मांगेराम (45), छोटी उर्फ रामकली पत्‍नी जगराम (65), अश्वनी पुत्र पलटू (40), रमेशो पत्नी धर्मपाल का गांव के श्मशान में अंतिम संस्कार हुआ। जबकि सावित्री पुत्री पलटू की शादी नागल क्षेत्र के गांव डंगडोली में होने की वजह से सावित्री का अंतिम संस्कार डंगडोली गांव में हुआ। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों के अलावा बड़ी संख्या में कई थानों की फ़ोर्स मौजूद रही।

Loading...

Check Also

उप्र विधानसभा उपचुनाव : भाजपा ने झोंकी ताकत, विपक्ष नहीं दिख रहा मैदान में

लखनऊ :  आमतौर पर उपचुनावों में विपक्ष ज्यादा हमलावर रहता है, क्योंकि उसके पास सत्ता ...