Home / Home / इस अंतराष्ट्रीय योग दिवस “दिल के लिए योग”: केंद्रीय मंत्री

इस अंतराष्ट्रीय योग दिवस “दिल के लिए योग”: केंद्रीय मंत्री

केंद्रीय मंत्री श्रीपाद एस्सो नाइक ने गुरूवार को कहा की इस योग दिवस पर विषय होगा “दिल के लिए योग” नाइक जो की AYUSH के लिए केंद्रीय राज्य मंत्री हैं , उन होने कहा की ये प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी की महनत है  की आज पूरी दुनिया 21 जून को International Yoga Day के रूप में देख रही है .

लोगो के जीवन में योग एक महत्वपूर्ण पहलु बन चुका है . और ये एक मन्निया उपलब्धि है की आज पूरे देश भर के लोग योग दिवस मन रहे हैं .

केंद्रीय मंत्री ने कहा की केंद्र का लक्ष्य है की योग को हर घर तक पहुचाना . उन होने कहा की ayush मंत्रालय हर एक व्यक्ति , समुदाय , कंपनी को प्रोत्साहित कर रहा है की इस योग दिवस वह योग को एक जन आन्दोलन बनाये जिससे लोगो को योग का लाभ मिल पाए.

उन होने कहा की 40,000 लोगो ने दिल्ली में योग दिवस पर इवेंट में भाग लिया था और वो चाहते हैं की इस बार रांची के लोग भी पूरी उत्साह से योग दिवस में भाद ले.

योग हमे ख़ुद से मिलाता हैं,योग ईश्वर की अनुभूति दिलाता हैं   योग शरीर , मन और आत्मा को जोड़ने का विज्ञान हैं

क्या है योग:योग का साधारण सा अर्थ है “संघ”(union) . आत्मा का परमात्मा से मिल. शरीर और मन का आत्मा से मिलन , या अपने ईगो और अपनी रूह का परमात्मा से मिलन . योग एक हिन्दू आध्यात्मिल और तवास्वी अनुशाशन है जिसके अभ्यास में सांस नियंत्रण , सरल ध्यान और विशिष्ट शारीरिक मुद्राएं है. योग का मूल सन्दर्भ आद्यात्मिक विकास अभ्यास था जो खुद के शरीर के बारे में जरुक करता है . योग द्वारा हम हमारे वास्तविक स्व को महसूस करते हैं और उसके करीब जाते हैं.

21  जून 2019  इंटरनेशनल योग डे: अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस, 2015 में स्थापित किया गया था इसके बाद से 21 जून को प्रतिवर्ष मनाया जाता है। united nations general assembly (UNGA) द्वारा योग के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय दिवस घोषित किया गया था। योग भारत में उत्पन्न एक शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक अभ्यास है। भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 जून की तारीख का सुझाव दिया, क्योंकि यह south hemisphere में वर्ष का सबसे लंबा दिन है और दुनिया के कई हिस्सों में एक विशेष महत्व रखता है।

योग भारत की प्राचीन परंपरा का एक अमूल्य उपहार है। यह मन और शरीर की एकता का प्रतीक है; विचार और कार्रवाई; संयम और पूर्णता; मनुष्य और प्रकृति के बीच सामंजस्य, स्वास्थ्य और कल्याण के लिए एक समग्र दृष्टिकोण। यह व्यायाम के बारे में नहीं है, बल्कि स्वयं, दुनिया और प्रकृति के साथ एकता की भावना की खोज करना है। हमारी जीवन शैली को बदलकर और चेतना पैदा करके, यह भलाई में मदद कर सकता है। आइए हम अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को अपनाने की दिशा में काम करें।- नरेंद्र मोदी, general assembly

Loading...

Check Also

हनी ट्रैप: 5 महिलाओं ने 20 अफसर-नेताओं से ऐंठे 15 करोड़, 90 वीडियो मिले

भोपाल. नेताओं-अफसरों को ब्लैकमेल कर करोड़ों वसूलने वाली पांचों महिलाओं के बारे में कई चौंकाने वाली ...